Lakshya Ki Awaaz

Dil toot gaya tha pyaar ke bazaar mein
Sapne bikhar gaye the zindagi ki giraft mein
Jazbaat jo samete the chun chun kar
Choor hue dheere dheere waqt ke gujarne se

Bhool gayi thi woh saans lene ki tehzeeb
Sar par junoon tha samaaj se ladhne ka
Par jab apno ne hi peeth par kiya waar
Saamne aayi do dhaari duniya ki asli tasveer

Lekin waqt ke sannaton se ladhti hui
Rooh pe giri umeed ki ek kiran
Chal padi woh apni rah phir se banane ko
Iss jahaan se duur apni manzil ki dagar par

Himmat hai ab bhi iraadon mein bohot
Buland hai dil-o-dimaag ka sandes
Ijaazat ki zaroorat nahi usse kisi aur ki
Lakshya paane apna chali woh pardes

Advertisements

5 thoughts on “Lakshya Ki Awaaz

  1. Nice poem :). I tried using quillpad to convert it into Hindi script:

    दिल टूट गया था प्यार के बाज़ार में
    सपने बिखर गये थे ज़िंदगी की गिरफ़्त में
    जज़्बात जो समेटे थे चुन चुन कर
    चूर हुए धीरे धीरे वक़्त के गुजरने से

    भूल गयी थी वो साँस लेने की तहज़ीब
    सर पर जुनून था समाज से लढ़ने का
    पर जब अपनो ने ही पीठ पर किया वार
    सामने आई दो धारी दुनिया की असली तस्वीर

    लेकिन वक़्त के सन्नाटो से लढ़ती हुई
    रूह पे गिरी उमीद की एक किरण
    चल पड़ी वो अपनी राह फिर से बनाने को
    इस जहाँ से दूर अपनी मंज़िल की डगर पर

    हिम्मत है अब भी इरादों में बोहोट
    बुलंद है दिल-ओ-दिमाग़ का संदेस
    इजाज़त की ज़रूरत नही उससे किसी और की
    लक्ष्या पाने अपना चली वो परदेस

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s